Search Menu

कमीशन खोरी के चलते 2 साल मैं ही सरकारी भवन की खस्ता हालत खुली ठेकेदारों की पोल

बंद मिले 3 आंगनवाड़ी केंद्र जारी किए कार्यकर्ताओं के खिलाफ नोटिस

डिजिटल मीडिया को अपने कब्जे में लेना चाहती है केंद्र सरकार, माकपा

Dark Light

सरकार की ओर से आमजन की सुविधाओं के लिए भारी बजट पास कर स्कूल अस्पताल सड़क अन्य सार्वजनिक भवनों के निर्माण कराए जाते हैं लेकिन ठेकेदार व अधिकारियों की कमीशन खोरी से इन भवनों में लगने वाला मटेरियल कितना गुणवत्तापूर्ण है इसका अंदाजा भवन बनने के साल एक या दो साल बाद लगता है या फिर तैयार होने के बाद जांच अधिकारी लगा सकते हैं जो उपयोग होने के कुछ दिन बाद ही भवन की दीवारों में दरार,टाइल्स, उखड़ने लगती हैं तब इसका खुलासा होता है ऐसा ही मामला नादौती तहसील के केमला गांव में देखने को मिला करीब एक सवा करोड़ की लागत से चिकित्सा भवन का निर्माण कराया गया था पीएचडी भवन के निर्माण में एन एच म बिंग कंपनी द्वारा किया गया था जिसके चलते अब भवन की हालत काफी खस्ता हो चुकी है इसकी शिकायत ग्रामीणों ने सरपंच ठेकेदारों से कि उन्होंने अपनी अपनी सफाई पेश की है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

संख्या बढ़ेगी, तो सरकार चाहते हुए भी कुछ नहीं कर पाएगी, संख्या रोकने का काम पब्लिक का है, बचने का इलाज भी आपके पास ही है: CM गहलोत

जयपुर। राजस्थान की सीएम अशोक गहलोत ने शनिवार को कोरोना महामारी के भयावह होते हालातों पर चिंता जताते…